मोटापा घटाने के उपाय

मोटापा घटाने के उपाय, मोटापा घटाने के दौरान क्या परहेज़ करें

मोटापा घटाने के उपाय – आधुनिक जीवनशैली ने हमारे खानपान और रहन सहन पर बहुत प्रभाव डाला है। फ़ास्ट फ़ूड और अनियमित भोजन से लोग बहुत सी बिमारियों के शिकार हो जाते है। जिसमें सबसे सामान्य बीमारी मोटापा है। मोटापे को बहुत से लोग अनदेखा कर देते है। परन्तु मोटापे की वजह से आप बहुत सी बिमारियों से ग्रसित हो सकते है जैसेकि मधुमेह, उच्च रक्तचाप, अपच, कब्ज़ आदि बिमारियों शामिल है।

मोटापा किसे कहते है और मोटापा घटाने के उपाय ?

जब व्यक्ति का वजन उसकी लम्बाई के अनुपात से अधिक हो जाता है, तो उसे मोटापा कहा जाता है। ऐसा तब होता है जब आप अपनी रोज की जरुरत से अधिक भोजन करने लगते है। जिसकी वजह से आपके शरीर में अतिरिक्त कैलोरी का वसा के रूप में जमा होना शुरु हो जाता है। इसके कारण आपके शरीर का वजन बढ़ने लगता है। जो आगे चलकर मोटापे का रूप ले लेता है।

वजन बढ़ने के क्या कारण है?

मोटापे का मुख्य कारण शरीर में अतिरिक्त वसा या चर्बी का जमा होना है। ऐसा निम्न कारणों से होता है:-

अस्वस्थ खान-पान की आदत

आजकल बाजार में तरह तरह के जंक फ़ूड आ गए है। जो खाने में तो स्वादिष्ट परन्तु स्वस्थ के लिए बहुत हानिकारक साबित होता है। जंक फ़ूड में शरीर की जरुरत से अधिक मात्रा में कैलोरी पाई जाती है। जिसकी वजह से व्यक्ति के शरीर में वसा जमा होना शुरु हो जाता है। जो आगे चलकर मोटापे का रूप ले लेता है। इसके अलावा अनियमित खान-पान भी मोटापे को जन्म देता है।

व्यक्ति की शारीरिक गतिशीलता में कमी

उद्योगों में बढ़ते प्रौद्योगिकी के प्रयोग के कारण लोगों का शारीरिक श्रम बहुत घट गया है। व्यक्ति ऑफिस में पूरे दिन एक ही कुर्सी पर बैठकर अपना सारा कार्य करता है। जिसकी वजह से उसकी शारीरिक गतिविधियां ठप्प पड़ जाती है। इसके अलावा व्यस्त दिनचर्या के चलते बहुत से लोग नियमित कसरत व व्यायाम भी नहीं करते है। जिसके फलस्वरुप लोग मोटापे का शिकार हो जाते है। 

जेनेटिक कारण

कभी कभी मोटापा व्यक्ति के जीन्स से जुड़ा होता है। अगर व्यक्ति के माता-पिता मोटे रहते है, तो हो सकता है उनकी संतान भी आगे चलकर मोटापे से ग्रषित हो। परन्तु इस तरह के मोटापे को संतुलित दिनचर्या व खान-पान से नियंत्रित किया जा सकता है।

मोटापे का मापदंड क्या है?

बॉडी मास इंडेक्स

किसी व्यक्ति का वजन उसके बॉडी मास इंडेक्स (बी.एम.आई.) पर निर्भर करता है। बी.एम.आई. की गणना व्यक्ति के किलोग्राम वजन को वर्ग मीटर में ऊंचाई से विभाजित करके प्राप्त किया जा सकता है। जो परिणाम प्राप्त होता है वही आपका बॉडी मास इंडेक्स कहलाता है। आप मोटे हैं या नहीं इसका पता लगाने के लिए दी गई तालिका से अपने परिणाम का मिलान करें। 

  • बी.एम.आई. 18.5 से कम – आप का वजन सामान्य से कम है मतलब आप अंडरवेट माने जाएंगे। 
  • बी.एम.आई. 18.5 – 24.9 के बीच – आपका वजन सामान्य माना जाएगा।
  • बी.एम.आई. 25 – 29.9 के बीच – आप का वजन सामान्य से ज्यादा है मतलब आप ओवरवेट माने जाएंगे। 
  • बी.एम.आई. 30 से ज़्यादा – आपका वजन सामन्य से बहुत ज़्यादा है और इसी स्थिति को मोटापा कहते है। 

यहाँ ध्यान देने वाली दो बातें है:-

  • बी.एम.आई. का परिणाम गर्भावस्था के दौरान लागू नहीं होता है। 
  • बॉडी मास इंडेक्स के परिणाम उम्र और लिंग पर निर्भर नहीं करता है।

मोटापा घटाने के घरेलु उपाय

मोटापे के कारण आज बहुत से लोग परेशान है। वजन कम करने के लिए बहुत से लोग दवाईयों का सेवन करते है। परन्तु अपनी दिनचर्या में सुधार नहीं करते है। जिसकी वजह से परिणाम शून्य निकलता है। व्यक्ति को वजन कम करने के लिए किसी दवा की जरुरत नहीं होती है। जरुरत है तो बस अपनी दिनचर्या एवं खान-पान की आदतों में सुधार करने की। इसके अलावा जल्दी वजन कम करके के लिए आप निम्न घरेलु उपायों को अपना सकते है।

नींबू और शहद का सेवन करें

रोज सुबह एक गिलास गुनगुने पानी में आधा नींबू का रस, एक चम्मच शहद एवं एक चुटकी काली मिर्च पाउडर डालकर सेवन करें। नींबू में मौजूद एसकोरबिक एसिड शरीर से विषाक्त तत्वों को बहार निकालने में मदद करता है। एवं काली मिर्च में मौजूद पाइपरीन शरीर में वसा को जमने से रोकता है। जिसके परिणाम स्वरुप आपका वजन तेजी से घटने लगता है।

मोटापा घटाने के लिए गुनगुने पानी का सेवन करें

आप हमेशा उबालकर आधा किया हुआ गुनगुने पानी का सेवन करें। दिनभर में गुनगुना पानी तीन से चार लीटर पीना चाहिए। ऐसा करने से व्यक्ति को पेट भरा हुआ महसूस होता है एवं उसको भूख भी कम लगती है। यह शरीर से गन्दगी पेशाब व पसीने के जरिए बहार निकाल देता है।

नियमित दालचीनी की चाय

दालचीनी की चाय बनाकर पीने से मोटापे में बहुत लाभ मिलता है। चाय बनाने के लिए पानी में तीन से पांच ग्राम दालचीनी डालकर अच्छे से पका लें। फिर पानी को छानकर उसमें एक चम्मच शहद मिलाकर इसका सेवन करें। रोज़ सुबह खाली पेट एवं रात को सोने से पहले नियमित दालचीनी की चाय का सेवन करें।

गुनगुने पानी के साथ इलाइची का सेवन करें

इलाइची में पोटेशियम, मैग्नेशियम, विटामिन बी1, बी6 और विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इलाइची शरीर में जमा वसा को कम करने एवं कोर्सिटोल लेवेल को नियंत्रित करने का कार्य करती है। इसके अलावा इलाइची शरीर में जमा अतिरिक्त पानी को पसीना और पेशाब के रूप में बाहर निकल देती है। रोज रात को सोते समय गुनगुने पानी के साथ दो इलाइची का सेवन करें जिससे आपको वजन कम करने में सहायता मिलेगी।

सुबह खाली पेट सौंफ का सेवन करें

सौंफ के आठ से दस दानों को एक कप पानी में अच्छे से उबाल लें। इस पानी को छानकर सुबह खाली पेट इसका सेवन करें। ध्यान रहे सौंफ के पानी को गर्म ही पीना है। ऐसा करने से आपको अधिक भूख नहीं लगेगी। जिससे आप जरुरत से ज़्यादा खाने से बच जाएंगे।

वजन/ मोटापा घटाने के लिए चित्रक, त्रिकटु और कुटकी का घरेलु उपाय

आयुर्वेदिक औषधि चित्रक, त्रिकटु और कुटकी को बराबर मात्रा में मिलाकर मिश्रण तैयार कर लें। अगर आपका वजन औसत वजन से 10 किलोग्राम ज़्यादा है तो इस आयुर्वेदिक मिश्रण को दिन में दो बार भोजन से एक घंटा पहले लें। अगर आपका वजन औसत वजन से 10 किलोग्राम से कम है तो इस मिश्रण का सेवन दिन एक बार करें। एक चम्मच मिश्रण को गुनगुने पानी के साथ खाना है।

मोटापा घटाने के लिए त्रिफला का घरेलु उपाय

रात में एक चम्मच त्रिफला चूर्ण को एक गिलास पानी में भिगों दें। सुबह इस पानी को आधा रह जाने तक उबालें। पानी गुनगुना होने पर उसको छानकर उसमें एक चम्मच शहद मिलाकर पिएं। ऐसा नियमित करने से कुछ ही दिनों में आपका वजन घटने लगेगा। इसके अलावा त्रिफला आपके शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने का भी कार्य करती है।

सेब के सिरके का घरेलु उपाय

रोज सुबह एक गिलास पानी में एक चम्मच सेब का सिरका और एक चम्मच नींबू का रस मिलाकर उसका सेवन करें। सेब के सिरके में मौजूद पेपटिन फाइबर लम्बे समय तक पेट के भरें होने का आभास कराता है। जिसकी वजह से आप अधिक भोजन करने से बच जाते है। इसके अलावा सेब का सिरका लिवर में जमे अतिरिक्त वसा को गलाने का भी कार्य करता है।

वजन घटाने के लिए पत्तागोभी का घरेलु उपाय

पत्तागोभी में मौजूद टैरटेरिक एसिड शरीर में मौजूद कार्बोहाइड्रेट को वसा में परिवर्तित होने से रोकने का कार्य करता है। जिसकी वजह से शरीर में वसा की परत नहीं बन पाती है। जिसके फलस्वरुप आपका वजन कम होने लगता है। पत्तागोभी को आप उबालकर या सलाद के रूप में सेवन कर सकते है।

मोटापा घटाने के लिए त्रिफला और गुग्गुल का उपयोग

त्रिफला, गुग्गुल व मैदोहर वटी की दो-दो गोलियों को पीसकर मिला लें। इस मिश्रण में एक चम्मच शहद मिलाकर भोजन के बाद इसका सेवन करें। इसको खाने के बाद एक कप गुनगुना पानी पी लें। ऐसा दिन में दो से तीन बार करें। त्रिफला व गुग्गुल का मिश्रण शरीर के विषाक्त तत्वों को बाहर निकालने का कार्य करते है। विशेषकर आंतों से चिपके पुराने मल को साफ़ करता है। परिणामस्वरूप आपको कब्ज़ से छुटकारा मिलता है और आपका पाचन क्रिया में सुधार हो जाता है।

वजन/ मोटापा घटाने के लिए अश्वगन्धा का घरेलु उपाय

आधुनिक जीवनशैली के चलते बहुत से लोग तनावग्रस्त रहते है। अत्यथिक तनाव की अवस्था में शरीर में कोर्सिटोल नामक हार्मोन की मात्रा बढ़ जाती है। कोर्सिटोल की मात्रा बढ़ने से व्यक्ति को अधिक भूख लगती है। अश्वगंधा शरीर में कोर्सिटोल की मात्रा को नियंत्रित करती है। अश्वगंधा के सेवन के लिए इसके दो से तीन पत्तों का पेस्ट बना लें। इस तैयार पेस्ट को सुबह खाली पेट गरम पानी के साथ पिए।

वजन/ मोटापा घटाने के लिए आंवला का घरेलु उपाय

आंवला में विटामिन-सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जोकि एक एंटी-ओक्सीडेंट है। आंवला शरीर से विषाक्त तत्वों को बाहर निकालने एवं चयापचय क्रिया को बढ़ाने और अतिरिक्त कैलोरी जलाने में मदद करता है। यह शरीर को रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है। प्रतिदिन एक आंवला का सेवन करें या फिर आप इसका रस निकालकर भी पी सकते है।

मोटापा घटाने के उपाय के दौरान क्या परहेज़ करें

  • मैदा एवं चीनी का कम से कम प्रयोग करें।
  • भोजन में अधिक मात्रा में नमक का सेवन न करें।
  • कफ को बढ़ाने वाले भोजन एवं पेय पदार्थों का सेवन न करें।
  • कार्बोहाइड्रैट युक्त भोजन जैसेकि चावल, आलू, मिठाई, कोल्ड ड्रिंक्स आदि का सेवन न करें।
  • जंक एवं फ़ास्ट फ़ूड न खाएं।
  • जितना हो सके गेहूं के आटे का प्रयोग करें।
  • कफ़ज प्रकृति के लोगों को हल्का भोजन, पित्तज प्रकृति के लोगों को ठंडी तासीर वाला भोजन एवं वातज प्रकृति के लोगों को मीठा व उष्ण तासीर का भोजन करना चाहिए।

वजन कम करने के लिए आपका खान-पान कैसा होना चाहिए

संतुलित आहार मेज़रमेंट

मौसमी सब्जियों एवं फलों का सेवन करें

जिस स्थान में जिस मौसम में जो सब्जियां एवं फल पैदा होते है, व्यक्ति को उन्ही का सेवन करना चाहिए। क्यूंकि प्रकृति मौसम के अनुसार ही फल एवं सब्जियां पैदा करती है। गर्मियों में ठंडी तासीर वाली चीजें उत्पन्न होती है एवं शर्दियों में गरम तासीर वाली। इसीलिए मौसम के अनुसार आपको इनका सेवन करना चाहिए।

कम वसा वाले दूध का सेवन करें

दूध का सेवन करते समय उसकी मलाई को निकाल दें। ऐसा करने से दूध में वसा की मात्रा कम हो जाएगी एवं कैल्शियम की मात्रा बढ़ जाएगी। ऐसे दूध का सेवन आपके वजन को कम करने में सहायता करता है।

हल्के एवं सुपाच्य भोजन का सेवन करें

दिन में समयानुसार भोजन करना चाहिए। सुबह को भारी भोजन, दोपहर को हल्का एवं रात में न के बराबर भोजन करना चाहिए। जो भी भोजन करें वो हल्का एवं सुपाच्य होना चाहिए। तला हुआ और मसालेदार भोजन करने से बचना चाहिए।

भूख लगने पर ही भोजन करें

व्यक्ति को सिर्फ स्वाद के लिए नहीं खाते रहना चाहिए। आपको जब भूख लगे तभी भोजन करना चाहिए। भोजन समय पर तथा भूख से थोड़ा कम ही खाना चाहिए। भोजन को अच्छे से चबाकर खाना चाहिए। ऐसा करने से आपकी पाचन क्रिया अच्छी बनी रहती है।

इस चीजों का सेवन करें

शरीर में जठराग्नि को बढ़ाने वाले भोजन जैसे कि पपीता, करेला, सरसों, काली मिर्च, सोंठ, अदरक, जीरा, अजवाइन, पालक, सहजन, चौलाई आदि पत्तेदार सब्जियां, लौकी, परवल, पत्ता गोभी, खीरा, तोरई, गाजर, चुकंदर, सेब, ककड़ी आदि का सेवन करें। इसके अलावा जौ, जयी, रागी, मूंग दाल, बाजरा, मसूर दाल, नींबू , आंवला, आंवला रस, एलोवेरा रस, ग्रीन टी, अंकुरित आनाज आदि का भी सेवन करना चाहिए।

अच्छी सेहत के लिए आपकी जीवनशैली कैसी होनी चाहिए

घरेलु उपचार, दवाईयां, कम भोजन करना आदि तबतक लाभदायक नहीं होगा जबतब आप अपनी जीवनशैली में सुधार नहीं करते है। क्यूंकि आपके वजन बढ़ने में आपकी जीवनशैली का बहुत बड़ा हाथ होता है। वजन कम करने या नियंत्रण में रखने के लिए आपको निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना होगा।

  • सुबह जल्दी उठकर सैर पर जाएँ।
  • नियमित व्यायाम एवं योग करें।
  • रात को हल्का एवं सुपाच्य भोजन करें।
  • सोने से कम से कम दो घंटे पहले भोजन करें।
  • पौष्टिक एवं संतुलित भोजन करें।
  • तला हुआ और मसालेदार भोजन न करें।
  • खाने में प्रचुर मात्रा में सब्जियों एवं फलों को शामिल करें।
  • जंक फ़ूड और फ़ास्ट फ़ूड खाने से बचें।
  • भूख लगने पर एक साथ ज्यादा खाने की जगह थोड़ी-थोड़ी देर में कई बार खाएं।
  •  गुनगुने पानी का सेवन करें।
  • वजन कम करने के लिए भोजन कभी भी न छोड़ें। सुबह, दोपहर और शाम को नियमित भोजन करें। भोजन छोड़ने के बजाय संतुलित एवं पौष्टिक आहार लें।
  • फलों के रस का सेवन करें।
  • योगासन जैसे- त्रिकोण आसन, भुजंगासन, सूर्य नमस्कार, ध्यान, प्राणायाम जैसे- भस्त्रिका, कपालभाती को प्रतिदिन अपनी दिनचर्या में शामिल करें।
  • व्यायाम के विकल्प के रूप में आप नृत्य, ऐरोबिक्स एवं जिम में कसरत कर सकते है।

अगर आप वजन घटाने के लिए घरेलु उपाय के साथ उपर्लिखित दिनचर्या का कड़ाई से पालन करते है, तो निश्चित रूप से आपका वजन कम हो जाएगा।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!