Jamun

जामुन के फायदे जिनसे हम अभी तक थे अन्जान – Benefits of Jamun

जामुन(Blackberry) और उसकी गुठली रामबाण इलाज़ है – पेट के पाचन क्रिया सही रखने के लिए और कई बीमारियों में आयुर्वेदिक दवाइयाँ बनाने में जामुन का उपयोग किया गया है। तो आइये जानते है जामुन से किन किन रोगों में फ़ायदा मिलता है –

  1.  मधुमेह शुगर (Diabetics Management ) – जामुन की गुठली को निकाल ले इसे अच्छे से धोकर सूखा ले , फिर पीस कर उसका पाउडर बना ले। अब रोज़ाना डायबिटिक पेशेंट को १ कप गुनगुने पानी के साथ एक चम्मच जामुन की गुठली का पाउडर दे ध्यान रहे की घोलते समय गुठली न पड़े फिर इसे पीने के लिए दे सीप सीप करके 10-15 दिन में आपको इसका परिणाम दिखने लगेगा।
  2. चेहरा ( Face ) – अगर आपके भी चेहरे में चमक और तेज़ नहीं है , और आप गोरा-पन बढ़ाना चाहते है तो , आप जामुन को जरूर खाये , जामुन से चेहरे में ग्लौ (Glow) आता है। जामुन को पीस ले फिर उसमे एक चम्मच गुलाबजल (Rose Water), एक चम्मच एलो वेरा (Aloe Vera) का जेल (gel) मिलाकर फेस पैक बना ले और इसे अपने फेस पे लगाइए 10-15 मिनट तक लगा रहने दे फिर धो ले। आप देखेंगे की इस लेप से आपके चेहरे में नूर आ गया है चेहरे की चमक बढ़ गयी है।
  3. बालों का झड़ना (Hair fall) – अगर आपके बाल बहुत झाड़ रहे है आप इससे बहुत परेशान है तो एक कटोरी में जामुन की गुठली का चूर्ण 5 चम्मच, 5 चम्मच आंवला का पाउडर, थोड़ी सी मुल्तानी मिटटी और 2 चम्मच एलो वेरा , 4-5 चम्मच खट्टी दही घर की बानी लेना हैं। सभी चीजों को अच्छे से मिलाये , नहाने के आधे घंटे पहले अपने बालों में लगाइए। इसे हफ्ते में दो बार आधे घंटे के लिए लगाइए फिर किसी आयुर्वेदिक शैंपू से बालों को धो ले , आप देसी साबुन का भी इस्तेमाल कर सकते है, इससे बाल घने और चमकदार होते है।
  4. पेट में क़ब्ज का होना (Constipation)- सुखी जामुन का पाउडर, सुखी पुदीना का पाउडर और आंवला का पाउडर तीनों को मिला कर एक चम्मच सुबह खली पेट पानी के साथ ले। अगर पानी तांबे या पीतल के बर्तन का हो तो और अच्छा , ऐसा माना जाता है की, इससे भयंकर से भयंकर क़ब्ज जड़ से खत्म हो जाती है । याद रहे यह उपाय 1 महीने से ज्यादा नहीं करना है।
  5. शारीरिक ताकत (Physical Strength)- चुस्ती आलस को कैसे दूर करे आइये जानते है। जामुन का फल तो आपको खाना ही खाना हैं साथ ही ताकत बढ़ाने के लिए
    1 चम्मच जामुन की गुठली का पाउडर ,1 चम्मच अश्वगंधा का चूर्ण लेना है दोनों को मिलकर पीए। आप व्यायाम करने के बाद पीए। अश्वगंधा एक जड़ी बूटी हैं जो की शारीरिक ताकत बढ़ाने में बहुत ही उपयोगी है। जिसमें सबसे महत्वपूर्ण व्यायाम हैं –
    कपालभाति, अविलोम विलोम , यह व्यायाम आप किसी टीचर की सहायता से करे आप देखेंगे की आपकी शारीरिक ताकत बढ़ेगी , यह आपके शरीर में ऊर्जा को बढ़ता हैं। यह उपाय मसल बिल्डिंग में भी उपयोगी हैं।
  6. जोड़ो में दर्द (Joint Pain) – रात में सोने से पहले एक चम्मच मेथी का दाना पानी में भिगोकर रख दे फिर सुबह पानी से निकाल कर रख दे एक दिन के लिए , मेथी दाना को अंकुरित करना हैं , जब अंकुरित हो जाये तो फिर इसे रोज़ सुबह चबाकर खाना हैं , साथ ही जामुन की गुठली का पाउडर एक चम्मच गुनगुने पानी के साथ निगल जाना हैं। इन दोनों को एक साथ लेने से आपके मांसपेशियों का दर्द , जोड़ो का दर्द , बिलकुल खत्म हो जाता हैं।
  7. पेशाव की समस्या (Urine Problem) – अगर आपका बच्चा रोज़ बिस्तर गिला करता हैं तो सुखी जामुन के बीज का पाउडर आधा चम्मच दिन में दो बार पानी में डालकर पिलाये ऐसा करने से बच्चे की यह समस्या (problem) दूर हो जायेगी।
  8. स्वस्थ्य दिल (Healthy Heart)- जामुन एक ऐसा फल हैं जिसमें पोटाशियम भरपूर मात्रा में हैं। दिल की बिमारी के लिए जामुन बहुत फ़ायदेमंद हैं। जामुन में एथरोस्लेरोसिस (atherosclerosis) होता है।, यह रक्तचाप (blood pressure) के लक्षणों को काम करता हैं। जिससे रक्तचाप नियंत्रित होता हैं और स्ट्रोक (stroke) और कार्डियक अरेस्ट (cardiac arrest) को रोकता हैं। 100 ग्राम जामुन में 79 मिली ग्राम पोटाशियम होता हैं।
  9. गैस (Acidity) – गैस के लिए जामुन बहुत ही अच्छा माना गया है। काले नमक में भुना जीरा मिला कर पीस ले फिर इसके साथ जामुन का सेवन करे ऐसा करने से ऐसिडिटी की समस्या दूर हो जायेगी।
  10. वज़न को काम करना (Weight Loss)- जामुन से वज़न काम होता हैं , जामुन का सेवन करने से आपकी भूख खत्म होती हैं , जामुन में काम कैलोरी होती हैं।
    इसके साथ जामुन में अत्यधिक फ़ाइबर होता हैं। इसी वजह से जामुन सरे फलों में से सबसे ज्यादा वज़न घटाने में मदद करता हैं।
  11.  प्रेगनेंसी में जामुन खाने के फायदे (Benefits of Blackberry in Pregnancy)- जामुन में विटामिन c , पोटाशियम , आयरन कैल्शियम जैसे ज़रुरी पोषक तत्व होते हैं ,जो प्रेगनेंसी के दौरान सेवन करने से अत्यधिक फ़ायदा देता हैं। जामुन खाने से गर्भवती महिला की इम्युनिटी भी बढ़ती हैं। जो महिला जामुन का सेवन करती हैं उनको गैस , कच्ची डकार , साँस फूलना , यह सब समस्या नहीं होती हैं, गर्भवती महिला हैल्थी फील करती हैं। गर्भ के दौरान ब्लड प्रेशर एक आम समस्या हैं, जो जामुन के सेवन से ठीक हो जाती हैं क्योंकि जामुन में एंटी ऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में होता हैं। प्रेगनेंसी के समय आप खाने के साथ एक कटोरी जामुन का सेवन करे। ध्यान रहे 2 कटोरी सेवन बिलकुल भी न करे ।
  12. दांतों में लाभ (Tooth Care)- दांतों के लिए जामुन एक ऐसा फल हैं जिसके बारे में जान करके आप खुद हैरान हो जयेगे। , जिनके दांतों में दर्द हो, मुँह से बदबू आना ऐसी समस्या हआप जामुन से इन समस्या को दूर कर सकते हैं , इसके लिए जामुन का बीज निकल कर सूखा ले और पीसकर पाउडर बना ले। रोज़ सुबह जामुन के बीज का पाउडर और सेंधा नमक मिलाकर अपने हाथों से 10 मिनट तक ब्रश करे। ऐसा करने से दांतों की सभी समस्या खत्म होगी।
  13. बुखार (Fever)- अगर आपको बुखार होता हैं तो , जामुन के 4-5 पत्ते ले और एक गिलास पानी में पत्तों को डालकर 15 मिनट तक उबले फिर पानी को आधा होने दे ,जामुन के पत्ते के पानी को दिन में 2- 3 बार पीने से बुखार में राहत महसूस होती हैं। शरीर का दर्द भी इससे काम हो जाता है और आप पहले से ज्यादा बेहतर महसूस करेंगे।
  14. पथरी (Stone) – अगर आपको पथरी हैं तो, जामुन की गुठली का एक चम्मच चूर्ण ले और इसे दही या छाछ के साथ ले ऐसा करने से आपकी पथरी धीरे धीरे खत्म हो जायेगी।
  15. खूनी बवासीर (Piles) – अगर आपको खूनी बवासीर हैं तो, 25 ग्राम जामुन में सेंधा नमक मिलाकर खाने से खूनी बवासीर समस्या दूर होती हैं।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!